May 12, 2021

SB NEWS

NEWSPAPER & WEB PORTAL

पहले चरण में 18 जिलों में हुए थे मतदान; 16 जिलों में तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के मामले

1 min read

उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव का आज दूसरा चरण है। 20 जिलों में मतदान जारी है। लेकिन अब पंचायत चुनाव के साइड इफेक्ट्स भी सामने आने लगे हैं। जिन 18 जिलों में प्रथम चरण के मतदान 15 अप्रैल को हुए थे। उनमें से 16 जिलों में कोरोना के केस बढ़ गए हैं। ऐसे में अब हेल्थ एक्सपर्ट्स का कहना है कि यह तो होना ही था। सरकार अब जो सुविधाएं कोरोना के नाम पर शुरू कर रही है। बढ़ती डिमांड के चलते वह भी नाकाफी ही होगी।

प्रथम चरण में कितने जिलों में चुनाव हुए था

पंचायत चुनाव के प्रथम चरण के लिए 18 जिलों, अयोध्या, आगरा, कानपुर, गाजियाबाद, गोरखपुर, जौनपुर, झांसी, प्रयागराज, बरेली, भदोही, महोबा, रामपुर, रायबरेली, श्रावस्ती, संत कबीर नगर, सहारनपुर, हरदोई और हाथरस में 15 अप्रैल को मतदान हुए थे। इन जिलों में 2.21 लाख पदों के लिए चुनाव हुए हैं, लेकिन अब इनके साइड इफेक्ट सामने आ रहे हैं।

पंचायत चुनाव में नहीं हो रहा कोरोना प्रोटोकॉल का पालन

हेल्थ एक्सपर्ट डॉ. एम लाल अपनी बात शुरू करने से पहले सवाल करते हैं कि बिना भीड़ के कौन सा चुनाव होता है? उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में निर्वाचन आयोग द्वारा बड़ी-बड़ी बातें की गई, लेकिन कोई एक जगह बताइए जहां कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किया गया हो। यहां तक कि कोरोना मरीजों को भी वोटिंग के लिए छूट दी गई है। मतदान केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग नहीं ही दिखी। उन्होंने कहा कि सरकार ने धारा 144 लगाई थी कि 5 लोग से ज्यादा इकट्ठा न होने पाए लेकिन इसका असर चुनावों के दौरान नहीं दिखा। उन्होंने कहा कि इसका असर आने वाले दिनों में और दिखेगा। एक तरफ सरकार डिमांड पूरी करने में लगी है तो दूसरी तरफ मरीज बढ़ रहे हैं ऐसे में डिमांड कैसे पूरी होगी।

प्रयागराज में मतदाताओं को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाते पुलिस के अफसर।
प्रयागराज में मतदाताओं को सोशल डिस्टेंसिंग का पाठ पढ़ाते पुलिस के अफसर।

वोट डालने को महानगरों से लौट रहे हैं प्रवासी मजदूर

लखनऊ के चारबाग स्टेशन पर मुंबई और दिल्ली जैसे महानगरों से आने वाली कई ट्रेनों से रोजाना के करीब 10 से 15 हजार यात्री उतर रहे हैं। इनमे से ज्यादातर यात्री पंचायत चुनावों में वोटिंग के लिए आए हैं। प्रवासी मजदूरों के लिए पंचायत चुनाव तो है ही साथ ही प्रवासी मजदूरों को डर है कि यह महानगर लॉकडाउन की तरफ बढ़ रहे है। ऐसे में लोग बिना परेशानी और तकलीफ के जल्द से जल्द अपने गांव पहुंचना चाहते हैं लेकिन यूपी सरकार की तैयारी इनके लिए नाकाफी है।

गांव में अभी क्वारैंटाइन सेंटर नही बने हैं। जहां बाहर प्रदेशों से आने वालों को आइसोलेट किया जा सके। स्टेशन पर दिखावे के लिए थर्मल स्कैनिंग हो रही है लेकिन ऐसा कोई केस सामने नही आया है कि जिसे आइसोलेट किया गया हो। यह सभी लखनऊ उतर कर सार्वजनिक परिवहन से अपने अपने शहरों की यात्रा कर रहे हैं। निगरानी समिति को एक्टिव किया गया है। लेकिन अभी भी गांव में कोई एक्शन दिख नही रहा है। केवल मुंबई की ट्रेनों से ही 1 अप्रैल से 15 अप्रैल के बीच ढाई से 3 लाख प्रवासी मजदूर लखनऊ के आसपास शहरों और गांव में पहुंच चुके हैं।

बरेली में मतदान के लिए पहुंची महिला।
बरेली में मतदान के लिए पहुंची महिला।

कहां कितने केस बढ़े?

जौनपुर (बढ़ा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 265
16 अप्रैल 530
17 अप्रैल 435
18 अप्रैल 511
गाजियाबाद (घटा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 538
16 अप्रैल 595
17 अप्रैल 250
18 अप्रैल 253
महोबा (बढ़ा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 6
16 अप्रैल 31
17 अप्रैल 95
18 अप्रैल 115
रामपुर (बढ़ा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 29
16 अप्रैल 162
17 अप्रैल 65
18 अप्रैल 210
रायबरेली (बढ़ा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 309
16 अप्रैल 231
17 अप्रैल 367
18 अप्रैल 345
कानपुर (बढ़ा संक्रमण) केस
15 अप्रैल 1263
16 अप्रैल 1403
17 अप्रैल 1826
18 अप्रैल 1839
अयोध्या (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 201
16 अप्रैल 160
17 अप्रैल 202
18 अप्रैल 357
सहारनपुर (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 142
16 अप्रैल 187
17 अप्रैल 314
18 अप्रैल 317
झांसी (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 466
16 अप्रैल 653
17 अप्रैल 703
18 अप्रैल 954
बरेली (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 399
16 अप्रैल 378
17 अप्रैल 577
18 अप्रैल 686
गोरखपुर (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 750
16 अप्रैल 846
17 अप्रैल 723
18 अप्रैल 781
प्रयागराज (एवरेज) केस
15 अप्रैल 1888
16 अप्रैल 1758
17 अप्रैल 1977
18 अप्रैल 1711
हाथरस (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 06
16 अप्रैल 10
17 अप्रैल 08
18 अप्रैल 23
हरदोई (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 160
16 अप्रैल 228
17 अप्रैल 145
18 अप्रैल 198
भदोही (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 178
16 अप्रैल 198
17 अप्रैल 129
18 अप्रैल 187
श्रावस्ती (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 70
16 अप्रैल 104
17 अप्रैल 42
18 अप्रैल 39
संतकबीरनगर (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 67
16 अप्रैल 32
17 अप्रैल 63
18 अप्रैल 138
आगरा (बढ़ा) केस
15 अप्रैल 349
16 अप्रैल 306
17 अप्रैल 384
16 अप्रैल 440

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *